एंडोक्रिनोलॉजी और मधुमेह विज्ञान के लिए सर्वश्रेष्ठ पांच एमसीक्यू

Publishing time:2021-10-18 14:53:51

मेरे पास लॉटरी विक्रेता एंडोक्रिनोलॉजी और मधुमेह विज्ञान के लिए सर्वश्रेष्ठ पांच एमसीक्यू 188bet एफ१,casumo असली या नकली,lovebet 1 सेंट स्लॉट,lovebet ए नसील पारा यतिरिलिरी,lovebet खिलाड़ी का प्रदर्शन,lovebet2021 apk,बी कैसीनो,बैकारेट होटल रेस्टोरेंट,बैकारेट राशि चक्र,सट्टेबाजी युक्तियाँ मुक्त,कैसीनो दिनों भारत,कैसीनो डॉट कॉम बोनस,कॉमोन सट्टेबाजी की समीक्षा,क्रिकेट पैड,एस्पोर्ट्स एजुकेशन,फिशिंग क्लैश गोल्ड रश,फुटबॉल कौशल चित्र,जिन रम्मी बिंदु मान,स्लॉट मशीन को कैसे हैक करें,आईपीएल जीत 2021,जुआ ऑनलाइन सती,लाइव कैसीनो तेजी से वापसी,लॉटरी 90 परिणाम,लूडो एलीट,जुए में कोई जीत नहीं,ऑनलाइन जुआ मंच,दोस्तों के साथ ऑनलाइन पोकर टूर्नामेंट,परिमच रेटिंग,पोकर ना छपा,प्रतिष्ठित कैसीनो,दुनिया पर राज करना हर कोई चाहता है,रम्मीकल्चर ब्लॉग,स्लॉट मशीन रणनीति reddit,खेल भ उल्,स्पोर्ट्सबुक ट्विन रिवर,टेक्सास होल्डम अनवरोधित,आप पोकर descargar,शतरंज और कार्ड गेम प्लेटफॉर्म किराए पर कहां लें,ज़ाहल्ट लियोवेगास औस,ऑनलाइन जुआ mp3,क्रिकेट t20,गोवा न्यूज़ आज तक,तीन पत्ती जंग,बकरा बकरी,बैकरेट सटीक खेल,षण्गीज़ा क्रिकेट लीग, .क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

हाल में कई फंड ऑफ फंड्स (एफओएफ) लॉन्‍च हुए हैं. इस तरह निवेशकों के पास चुनने के लिए विकल्पों की कमी नहीं है.
हाल में कई फंड ऑफ फंड्स (एफओएफ) लॉन्‍च हुए हैं. इस तरह निवेशकों के पास चुनने के लिए विकल्पों की कमी नहीं है. हालांकि, एक बात हर निवेशक को ध्‍यान रखने की जरूरत है. चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है. इसका मतलब है कि निवेशकों को ओरिजनल स्‍कीम के साथ ही एफओएफ के एक्सपेंस रेशियो का भार भी उठाना पड़ सकता है.

इस बात को उदाहरण से समझते हैं. मान लेते कि निवेशक हाल में लॉन्‍च निप्‍पॉन इंडिया एसेट अलोकेट एफओएफ में निवेश करते हैं. इस मामले में उन्‍हें एफओएफ का एक्‍सपेंस रेशियो 0.19 फीसदी उठाना पड़ेगा. साथ ही वह एफओएफ जिन स्‍कीमों में निवेश करेगा, उनके वेटेड एवरेज एक्‍सपेंस रेशियो का भार भी निवेशकों पर आएगा. इस मामले में तीन स्‍कीमें हैं, निप्‍पॉन इंडिया स्‍मॉलकैप फंड (1.06%), निप्पॉन इंडिया ग्रोथ फंड (1.26%) और निप्पॉन इंडिया लॉर्जकैप फंड (1.18%).

आपको एफओएफ रूट का इस्‍तेमाल सिर्फ तभी करना चाहिए अगर अतिरिक्‍त कॉस्‍ट उचित है. आइए, जानते हैं कि इस फैसले तक पहुंचने में आपको किन बातों का ध्‍यान रखना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : निवेश की शुरुआत करने जा रहे हैं? जानिए कैसे उठाएं एक-एक कदम

आपके रिटर्न प्रोफाइल में फिट हो स्‍कीम
प्राइमरी स्‍कीम यानी घरेलू म्‍यूचुअल फंड स्‍कीम का उपलब्‍ध न होना एफओएफ रूट लेने का एक कारण हो सकता है. इससे भी अधिक महत्वपूर्ण यह है कि इस नई स्‍कीम को आपके पोर्टफोलियो प्रोफाइल में फिट होना चाहिए.

क्रेडेरे वेल्‍थ पार्टनर्स में प्रोडक्‍ट और रिसर्च के हेड अरुण गोपालन कहते हैं, ''निवेशकों को जिस स्‍कीम में निवेश किया जा रहा है, उसे देखना चाहिए. साथ ही यह भी पता लगाना चाहिए कि उससे क्‍या मकसद हल हो रहा है.''

एलआरएस के जरिये सीधे निवेश करने में क्‍या दिक्‍कत है?
आप पूछ सकते हैं कि लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्‍कीम (एलआरएस) का इस्तेमाल करते हुए सीधे विदेशी शेयरों में क्‍यों निवेश नहीं किया जा सकता है. यह बिल्‍कुल सही है कि आप सीधे निवेश कर सकते हैं. लेकिन, उसके लिए आपको काफी विशेषज्ञता की जरूरत होगी. इस बात को ध्‍यान रखना चाहिए कि भारतीय फंड हाउस सीधे इंटरनेशनल सेगमेंट में सिर्फ इसलिए नहीं हाथ आजमा रहे हैं क्योंकि उनके पास यहां निवेश करने की कुशलता नहीं है.

इसे भी पढ़ें : मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

आप इंटरनेशनल फंडों या एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड में निवेश कर काफी हद तक विशेषज्ञता के मसले को हल कर सकते हैं. हालांकि, यह एक और परेशानी खड़ी करेगा. वह है एलआरएस व्यवस्था के तहत रिपोर्ट‍िंग की.

हाल में लॉन्‍च हुए एफओएफ
master

जहां एफओएफ रूट का इस्‍तेमाल ग्‍लोबल डायवर्सिफिकेशन के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है. वहीं, अच्‍छा होगा कि घरेलू थीम के लिए इससे बचा जाए.

घरेलू एफओएफ की उपयोगिता कम
बात जब घरेलू परिदृश्य की आती है तो एफओएफ की उपयोगिता घट जाती है. हाल में लॉन्‍च कई एफओएफ अपने ही ईटीएफ में पैसा लगाएंगे. इस मामले में वैल्यू एडिशन कम है. कारण है कि निवेशक सेकेंडरी मार्केट से प्राइमरी ईटीएफ सीधे खरीद सकते हैं. हालांकि, यह निवेशकों के एक धड़े के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है.

प्‍लान अहेड वेल्थ एडवाइजर्स के सीईओ विशाल धवन कहते हैं कि जिन म्‍यूचुअल फंड निवेशकों के पास डीमैट या ट्रेडिंग अकाउंट नहीं है, उनके लिए ईटीएफ में एफओएफ निवेश उपयोगी होगा.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

फंड ऑफ फंड्सएफओएफम्‍यूचुअल फंडरिटर्न प्रोफाइलएक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS
Fintech

Inside Amrish Rau’s experiments at Pine Labs: card swipe as a gateway to everything that’s SaaS

10 mins read
Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.
Auto

Auto sales may plunge 30% this festive season. But don’t blindly point a finger at tepid demand.

12 mins read
क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

क्‍या आप 2021 में कार खरीदने की योजना बना रहे हैं? अगर हां तो कारदेखो डॉट कॉम के साथ हम यहां आपको कुछ शानदार विकल्‍पों के बारे में बता रहे हैं. कार के ये मॉडल इस साल लॉन्‍च हो सकते हैं. हमने यहां 7-15 लाख रुपये की कैटेगरी में सबसे अच्‍छी कारों को चुना है.डेट म्‍यूचुअल फंडों की कई कैटेगरी हैं. मनी मार्केट म्‍यूचुअल फंड उनमें से एक है. ये स्‍कीमें उन लोगों के लिए मुफीद होती हैं जो अपने निवेश के साथ बहुत कम जोखिम लेना चाहते हैं. चूंकि ये स्‍कीमें छोटी अवधि के इंस्‍ट्रूमेंट में पैसा लगाती हैं. इसलिए इन पर अर्थव्‍यवस्‍था में ब्‍याज दर में होने वाले बदलाव का ज्‍यादा असर नहीं पड़ता है. मनी मार्केट इंस्‍ट्रूमेंट के साथ कम जोखिम होने के कारण भी इनमें निवेश अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है. आइए, यहां इनके बारे में कुछ जरूरी बातों को जानते हैं.लंबी अवधि में जमा के लिए पोस्ट ऑफिस का रुख कर रहे हैं निवेशक

समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.कार खरीदने जा रहे हैं? 40 लाख रुपये तक के बजट में ये हैं शानदार ऑप्‍शन

साल 2020 पूरी तरह के कोरोना वायरस महामारी के नाम रहा. इसकी वजह से न सिर्फ दुनिया में आर्थिक मंदी का खतरा बढ़ गया, मगर कई इंडस्ट्रीज में सुस्ती का माहौल भी छा गया. इसमें ऑटो सेक्टर भी अछूता नहीं रहा.हालांकि, इस साल कई दिग्गज कार कंपनियों ने एक-के-बाद-एक बेहतरीन और शानदार कार और बाइक्स मार्केट में उतारी. सुपरफास्ट इंजन, आकर्षक लुक्स और महंगे दाम वाली कई कार और बाइक ने बाजार को अपना दिवाना बनाया. जानिए इस साल सड़कों पर उतरी कौनसे लग्जरी वाहन:ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.निसान की कारें होंगी महंगी, जनवरी से 5% तक बढ़ेंगे दाम

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


शतरंज 2 खिलाड़ी
अमीर फुटबॉलर
यूरोपीय सट्टेबाजी की संभावनाएं
फ़ुटबॉल और कुलिच्की
क्रिकेट जीके अंग्रेजी मेंईश
भाग्यशाली दिन कैसीनो पेसेफकार्ड
बैकरेट फोरम खेलें
सट्टेबाजी क्षेत्र फुटबॉल
लॉटरी झाला
NBA का वेतन अधिक है या फ़ुटबॉल
xet ज़ू १८८बेट
बैकारेट का आकार क्या है
6+ पोकर हैंड रैंकिंग
बरसात टमाटर की खेती
कॉम.रम्मी वुंगो.गेम
ऑनलाइन बेटिंग वेबसाइट कैसे बनाये
लखानी स्पोर्ट्स शूज
टेक्सास होल्डम नो लिमिट रूल्स
लॉटरी विस्कॉन्सिन
इंडीबेट रेफरल कोड
fun88 मोबाइल
कैटरीना बाइक
यूट्यूब शतरंज
क्रिकेट exchange
दोस्तों के साथ ऑनलाइन निजी पोकर मुफ्त
लियोवेगास कोटियूटस
लूडो उद्धरण