आर ग्रुप लवबेट

आर ग्रुप लवबेट

time:2021-10-20 03:17:39 फ्रैंकलिन टेंपलटन की छह बंद योजनाओं को मिले 15,776 करोड़ रुपये Views:4591

फुटबॉल खाता 168 आर ग्रुप लवबेट betway संपर्क,fun88 लोगो वेक्टर,lovebet 4 स्कोर करने के लिए काम नहीं कर रहा है,lovebet मदद,lovebet टी एंड सी,0pn खेल लाइव क्रिकेट,बैकारेट दोपहर की चाय,बैकरेट ऑड्स,बेस्ट जैकपॉटजॉय गेम्स,बोन्स ज़ालैंडो बेल्गिक,कैसीनो खुशी,शतरंज 960 अर्थ,क्रिकेट बुक बॉलिंग,क्रिकेट विश्व कप 2023,युवाओं को निर्यात करता है,फ़ुटबॉल औ ब्रेसिला,जी कैसीनो एबरडीन,खुश किसान दावो,http //m.lovebet8/,जे फुटबॉल टीमें,ला बैकारेट रेस्टोरेंट,लाइव कैसीनो वेगास,लॉटरी जेटर टोटका,लूडो वाला गेम,ऑनलाइन बोली कैसीनो,ऑनलाइन गेम प्लेटफॉर्म,ऑनलाइन स्लॉट हॉट,पॉइंट रम्मी श्याओमी,पोकर युद्ध रूप,रूले लाइव आओ विंसेरे,रम्मी कार्ड पॉइंट,रम्मीकल्चर विकिपीडिया,स्लॉट दोहरी चैनल,खेल एनबीए,तीन पत्ती क्लब,खुश किसान विकिपीडिया,वीडियो स्पोर्ट्स कार,वाइल्डज़ बोनस कोड मुफ्त स्पिन,cricket समाचार,करीना खोल बरसात में गाना,क्रिकेट बैट फोटो,चेस मैच,नृत्य,बरसात पूजा,रमी पत्ता गेम,स्टेटस तमाशा, .फ्रैंकलिन टेंपलटन की छह बंद योजनाओं को मिले 15,776 करोड़ रुपये

फंड हाउस ने 23 अप्रैल को छह डेट म्यूचुअल फंड योजनाओं को बंद कर दिया था. इन आधा दर्जन फंडों का एसेट अंडर मैनेजमेंट करीब 25,000 करोड़ रुपये का था.
नई दिल्ली: फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से मैच्योरिटी, पूर्व भुगतान और कूपन भुगतान से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.

फंड हाउस ने 23 अप्रैल को छह डेट म्यूचुअल फंड योजनाओं को बंद कर दिया था. इसके लिए डेट बाजार में लिक्विडिटी की कमी तथा लोगों द्वारा निकासी के दबाव का हवाला दिया गया था. इन आधा दर्जन फंडों का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) करीब 25,000 करोड़ रुपये का था.

ये योजनाएं 'फ्रैंकलिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनेमिक एक्यूरल फंड, फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड, फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान, फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड और फ्रैंकलिन इंडिया इनकम अपर्चुनिटीज फंड' हैं.

इसे भी पढ़ें: इनकम टैक्स भरने के लिए जारी हुआ नया आईटीआर फॉर्म, जानिए क्या हैं बदलाव

कंपनी ने अपने बयान में कहा, "छह योजनाओं को 31 मार्च, 2021 तक कुल 15,776 करोड़ रुपये का नकदी मिली है." इस साल 31 मार्च को समाप्त हुए पखवाड़े में इन योजनाओं को 505 करोड़ रुपये मिले हैं.

फंड हाउस ने कहा कि फ्रैंकलिन इंडिया इनकम ऑपर्चुनिटीज फंड ने अपने सभी बकाया उधारी को चुका दिया है. इस तरह अब सभी छह योजनाएं नकदी के हिसाब से सकारात्मक हो गई हैं और इनके पास 1,370 करोड़ रुपये का फंड बचा हुआ है.




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

फ्रैंकलिन टेंमपलटन म्यूचुअल फंडफ्रैंकलिन टेंमपलटन डेट म्यूचुअल फंडसेबीशेयर बाजारफ्रैंकलिन टेंमपलटनम्यूचुअल फंड्सफ्रैंकलिन टेंमपलटन डेट फंडफ्रैंकलिन टेंमपलटन की बंद स्कीमें

ETPrime stories of the day

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?
Agriculture

Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?

7 mins read

डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.बेटी की शिक्षा और शादी के लिए माता-पिता पैसा जोड़ पाएं, इस मकसद के साथ यह स्‍कीम लॉन्‍च की गई थी.बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है.पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.फ्रैंकलिन टेंपलटन की छह बंद योजनाओं को मिले 15,776 करोड़ रुपये

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
शुमान खुश किसान youtube

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.

ऑनलाइन स्लॉट आप फोन बिल द्वारा भुगतान कर सकते हैं

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

सीरी बी लवबेट

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.

बैकारेट जीतने की ओर इशारा करता है

एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.

कैसे इंटरनेट जुआ अवैध नहीं है

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी