दस स्कोर क्रम 3 में

दस स्कोर क्रम 3 में

time:2021-10-20 03:06:02 मारुति की कारें होंगी महंगी, अप्रैल से बढ़ जाएंगे दाम Views:4591

लवबेट नहीं खोल सकते दस स्कोर क्रम 3 में 10cric मूल,casumo ईमेल,लियोवेगास q3 तालमेल,lovebet सी हिल मृत्युलेख,lovebet नया ग्राहक ऑफर,lovebet आपकी हिस्सेदारी से अधिक है,वैकल्पिक ज़ू लियोवेगास,बैकरेट फिक्स्ड बैंकर,बैकरेट ट्यूटोरियल,सट्टेबाजी की नौकरियां ब्रिटेन,कैसीनो ऐप असली पैसा,कैसीनो यू सम,क्लासिक रम्मी प्लस रेफरल कोड,क्रिकेट जर्सी पैटर्न,ई lovebet.com,प्लग-इन के बिना यूरोपीय फ़ुटबॉल,फुटबॉल नेट फोरम,जेनेसिस कैसिनो नो डिपॉजिट बोनस कोड,फुटबॉल मैच कितने समय तक चलता है?,आईपीएल कब से चालू होगा,जैकपॉट तमिल फिल्म,लाइव लाठी असली पैसा,लाइव-एक्शन वीडियो बैकारेट की उच्च प्रतिष्ठा है,लॉटरी यंत्र,एनबीए बास्केटबॉल फाइनल स्कोर,ऑनलाइन कैसीनो वेगास,ऑनलाइन पोकर साइट्स है,परिमच जुआ,पोकर हैंड्स रैंक,आर/स्पोर्ट्सबुक,नियम एन पासंत,रम्मी वेरिएंट उदाहरण,खेलों में स्लॉट मशीन,स्पोर्ट्स 4 व्हीलर,स्पोर्ट्सबुक इलिनोइस,टेक्सास होल्डम कार्तेंडेक,शीर्ष रम्मी क्लासिक,बैकारेट का आकार क्या है,एक्सकोड १२ बीटा ७ डाउनलोड,इस साइट की सिफारिश करे,क्या बैकारेट नकली है?,गोवा की वेशभूषा,डिबेट का अर्थ,फुटबॉल वेबकास्ट,बेटा राउर पीके रोज करेला डरामा,लॉटरी टिकट रिजल्ट,हा गोवा .मारुति की कारें होंगी महंगी, अप्रैल से बढ़ जाएंगे दाम

इससे पहले मारुति सुजुकी ने इस साल 18 जनवरी को लागत में वृद्धि का हवाला देते हुए चुनिंदा मॉडल पर दाम 34,000 रुपये तक बढ़ाने की घोषणा की थी.
नई दिल्ली : कार बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने अगले महीने से अपने सभी मॉडल के दाम बढ़ाने का एलान किया है. उसने बताया है कि कच्चे माल की कीमत बढ़ने से लागत में इजाफा हुआ है. उसकी भरपाई के लिए दाम बढ़ाना जरूरी हो गया है.

एमएसआई के एग्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर (सेल्स एंड मार्केटिंग) शशांक श्रीवास्तव ने कहा, ''उत्सर्जन मानदंडों को लेकर नियम पिछले साल अप्रैल से अमल में हैं. इसको लेकर कई सारी लागतें जुड़ी हैं. हमने कीकमत बढ़ाने पर विचार किया था. लेकिन, पिछले साल बाजार की स्थिति अच्छी नहीं थी. लिहाजा, हम उस समय दाम नहीं बढ़ा सके.''

इसे भी पढ़ें : एसबीआई के योनो एप से खरीदारी करने पर मिल रहा है 50% तक डिस्‍काउंट

उन्होंने कहा, ''लेकिन अब कच्चे माल खासकर स्टील, प्लास्टिक और दुर्लभ धातुओं की लागत काफी बढ़ गई है.''

श्रीवास्तव ने कहा, ''हम महामारी के बाद मांग को गति देने की कोशिश कर रहे थे और यही कारण था कि हमने जनवरी में कीमत वृद्धि कम की. उस समय यह भी सोच थी कि कच्चे माल की लागत ऊंची नहीं रहेगी और इसमें गिरावट आएगी. लेकिन, अब जो अनुमान है, उसके अनुसार कीमत अगली कुछ तिमाहियों तक ऊंची बनी रहेगी. इसलिए न चाहते हुए भी हमने कीमत बढ़ाने का फैसला किया.''

इसे भी पढ़ें : टर्म इंश्‍योरेंस पॉलिसी हो सकती है महंगी, यह है वजह

उन्होंने कहा कि दाम में वृद्धि मॉडल पर निर्भर करेगी. इससे पहले, मारुति सुजुकी ने इस साल 18 जनवरी को लागत में वृद्धि का हवाला देते हुए चुनिंदा मॉडल पर दाम 34,000 रुपये तक बढ़ाने की घोषणा की थी. मारुति सुजुकी देश में बड़ी रेंज में कारों की बिक्री करती है. इनमें छोटी कार अल्‍टो से लेकर प्रीमियम क्रॉसओवर एस-क्रॉस तक शामिल हैं.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

मारुति सुजुकीकच्‍चा मालकीमत में बढ़ोतरीएमएसआईकार के दाम

ETPrime stories of the day

How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts
Under the lens

How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts

10 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read
Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.
Pharma

Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.

9 mins read

इसके साथ ही देश के इस सबसे बड़े बैंक ने कहा कि वॉलेंटरी रिटायरमेंट स्‍कीम (वीआरएस) लागत में कटौती करने के लिए नहीं है.योनो सुपर सेविंग डेज का पहला चरण फरवरी में संपन्‍न हुआ था. इस दौरान भी ग्राहकों को छूट पर 4 दिन के लिए खरीदारी का मौका मिला था. यह 4 फरवरी से 7 फरवरी तक चला था.एसबीआई इस साल 14,000 लोगों की भर्ती करेगा

कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू किए गए लॉकडाउन के कारण विभिन्न क्षेत्रों में छंटनी, वेतन में कटौती या कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी रुक गई है. हालांकि, कई बड़े निजी क्षेत्र के बैंकों ने कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी की है.साल 2020 पूरी तरह के कोरोना वायरस महामारी के नाम रहा. इसकी वजह से न सिर्फ दुनिया में आर्थिक मंदी का खतरा बढ़ गया, मगर कई इंडस्ट्रीज में सुस्ती का माहौल भी छा गया. इसमें ऑटो सेक्टर भी अछूता नहीं रहा.हालांकि, इस साल कई दिग्गज कार कंपनियों ने एक-के-बाद-एक बेहतरीन और शानदार कार और बाइक्स मार्केट में उतारी. सुपरफास्ट इंजन, आकर्षक लुक्स और महंगे दाम वाली कई कार और बाइक ने बाजार को अपना दिवाना बनाया. जानिए इस साल सड़कों पर उतरी कौनसे लग्जरी वाहन:रोजगार के हालात में आ रहा सुधार, ईपीएफओ के आंकड़ों से मिले संकेत

योनो सुपर सेविंग डेज का पहला चरण फरवरी में संपन्‍न हुआ था. इस दौरान भी ग्राहकों को छूट पर 4 दिन के लिए खरीदारी का मौका मिला था. यह 4 फरवरी से 7 फरवरी तक चला था.कई लोग छु‍ट्टी मनाने के लिए अब बाहर निकलने लगे हैं. यह अलग बात है कि कोविड-19 का डर अब भी बना हुआ है. ऐसे में सुरक्षा की अनदेखी करना सही नहीं है. यहां हम ऐसे कुछ गैजेट्स और एक्‍सेसरीज के बारे में बता रहे हैं जो आपकी ट्रिप को सुरक्षित बनाने में मदद करेंगे.साल 2020 में कार और बाइक्स ने मचाई धूम, जानिए क्या है कीमत

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
आर/स्पोर्ट्सबुक

सैलरी कब अपने स्‍तर पर लौटेंगी, यह आर्थिक गतिविधियों के बहाल होने पर निर्भर करेगा. डेलॉयट के सर्वे में शामिल 75 फीसदी संस्‍थानों ने मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए वेतनवृद्धि में किसी तरह के अनुमान जाहिर करने से इंकार कर दिया.

सभी खेल

इसके साथ ही देश के इस सबसे बड़े बैंक ने कहा कि वॉलेंटरी रिटायरमेंट स्‍कीम (वीआरएस) लागत में कटौती करने के लिए नहीं है.

रम्मी वेरिएंट उद्धरण

इसके साथ ही देश के इस सबसे बड़े बैंक ने कहा कि वॉलेंटरी रिटायरमेंट स्‍कीम (वीआरएस) लागत में कटौती करने के लिए नहीं है.

करीना योगा

2020 के पहले छह महीनों में केपजेमिनी ने 9,500 लोगों की भर्ती की है. सेकेंड हाफ में उसकी 13,500 लोगों को रिक्रूट करने की योजना है.

बैकरेट नकद खाता खोलना

कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू किए गए लॉकडाउन के कारण विभिन्न क्षेत्रों में छंटनी, वेतन में कटौती या कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी रुक गई है. हालांकि, कई बड़े निजी क्षेत्र के बैंकों ने कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी की है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी